Posted in साहित्य/कविताएं/कहानियां

— प्रशान्त ‘बेबार’ पहले वतन के बेढके बदन को लुकना चाहिएजैसे भी हो ये पीप…

Continue Reading पहले वतन के बेढके बदन को लुकना चाहिए

पहले वतन के बेढके बदन को लुकना चाहिए

Posted in साहित्य/कविताएं/कहानियां

डर से बिकती मिडिया आज आज ये देखो मिडिया वाले,बिक गए कैसे नेताओं से।नेता क्या…

Continue Reading डर से बिकती मिडिया आज

डर से बिकती मिडिया आज